Tuesday, 12 June 2012

/// बचपन सुहाना ///




चलो ढूंढ़ ला वो बचपन सुहाना. . .
वो मासूम बातें,,
वो छत पर छोटा सा घरौंदा बनाना///

वो अंगूर की डालि का यूं झुक जाना. . .
उन में से चुन चुन के अंगूर खाना///

वो करते थे हम आप में झगड़ा. . .
वो आप में करते थे हम एक-दूजे की चिंता///

कुछ कड़वी कुछ मीठी सी यादें. . .
कुछ समय की उलझन में खो सी बातें///

चलो ढूंढ़ ला वो बचपन सुहाना. . .
चलो...... चलो////

34 comments:

  1. आपने तो हमारे भी बचपन की याद दिला दी :)

    ब्लॉग जगत मे आपका हार्दिक स्वागत है।


    सादर

    ReplyDelete
  2. हाँ बचपन....

    उसी मस्ती की याद दिला दी आपने. आभार.

    ReplyDelete
  3. Dhanyawaad yashwant ji :)

    ReplyDelete
  4. वो गिल्ली डंडा , वो कंचे, वो इमली के चिंये , वो कटी पतंग , वो बहती नाक और वो सरकती नेकर और वो चुरा कर खाना मलाई दूध की , बहुत कुछ याद आता है बचपन का , पर कमबख्त अब वो बचपन लौट कर नहीं आता है |

    ReplyDelete
  5. @दीपक बाबा
    Bachpan he hi esa...bhulaye nahi bhulta... :)

    @अमित श्रीवास्तव
    Sahi he bilkul....

    ReplyDelete
  6. Welcome in the blog world... :-) Nice beginning ...

    ReplyDelete
  7. काश बचपन ...सिर्फ १ बार और जीने का मौका मिल जाता ...

    ReplyDelete
  8. Bachpan he hi esa...sunehra aur sundar :)

    ReplyDelete
  9. bachpan mai pocket money mai milne wala 1 rupaya jo khushi deta tha wo aaj 100 rupaya milne ke bad bhi nhi milati hai
    i really miss my childhood days
    nice wrttn

    ReplyDelete
  10. @shekhar suman
    Thanx

    @anju chaudhary
    ye mouka to hum sabhi dhundte he,,par mil nai pata :(

    @noopur
    sahi kaha....

    @vinamra jain
    childhood is the best part of life...with lots of memories.... :)

    ReplyDelete
  11. vo bachpan ka samay ... vo barish ka pani .. aur kagaz ki kashti ...
    nikkar me ghumna .. aur ghutne fudwana ...

    ReplyDelete
  12. कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन.....
    बचपन के दिन
    जब दिल नहीं..
    खिलौने टूटा करते थे
    आज आँसू का
    एक कतरा भी असहनीय है
    बचपन में तो हम
    जीभर रोया करते थे
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन..... :) :)

      Delete
  13. Bachpan life ka sab se acche pal hote hai...

    ReplyDelete
  14. कल 15/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. खुशबूदार रचना
    दूसरी बार आई हूँ
    आती रहूँगी

    ReplyDelete
  16. बचपन की यादें .... खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  17. बचपन की यादों को ताज़ा करती सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  18. @yashoda ji
    aate rahiye...apka hmesha swagat he....

    @sangeeta ji
    dhanyawaad....

    ReplyDelete
  19. बच पण याद आ गया ...आहूत खूब

    ReplyDelete
  20. बचपन की यादें ताज़ा कर दीं...बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. Dhanyawad kailash ji :)

      Delete
  21. Koi mera bachpan mujhe lauta do.....

    ReplyDelete
  22. @suresh kumar ji
    kash koi louta pata

    ReplyDelete
  23. वाह .. बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  24. वो बचपन के दिन कितने दूर हो गये
    खट्टे अब जीवन के सब अंगूर हो गये.

    सुंदर खटमीठी रचना.....

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर बस उही लिखते रहिये
    बहुत अच्छी तरह से अपनी भावनाओ को वयक्त किया है अपने
    डेर sari शुभकानाए और ब्लॉग जगत में आपका सवागत है
    दिनेश पारीक

    ReplyDelete
  26. sehaj aur sundar rachna!

    badhai kabule!

    ReplyDelete